समाचार

हरिकृष्ण देवसरे - बालसाहित्य सम्मान एवं बालसाहित्य पुरस्कार - २०१५ । मीडिया कवरेज


नेशनल बुक ट्रस्ट के सहयोग से १७ फ़रवरी, २०१५ को आयोजित: "चलो बनायें एक कहानी"

डॉ.हरिकृष्ण देवसरे पर केन्द्रित बालवाटिका पत्रिका का विशेषांक लोकार्पित

९ मार्च, २०१४

भीलवाड़ा-राजस्थान से गत १८ वर्षों से प्रकाशित हो रही साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्कार की मासिक पत्रिका 'बालवाटिका' ने १९वें वर्ष में प्रवेश करते हुए मार्च, २०१४ का विशेषांक बाल साहित्य के पुरौधा (स्व.) डॉ. हरिकृष्ण देवसरे पर केन्द्रित किया

जिसका लोकार्पण डॉ. देवसरे के ब्रजविहार-गाज़ियाबाद स्थित निवास पर ९ मार्च, २०१४ की संध्या को बड़े ही अनौपचारिक एवं भावुक पलों के बीच श्रीमती विभा देवसरे, बालवाटिका संपादक डॉ. भैरूंलाल गर्ग, श्रीमती मधु पन्त, तथा डॉ. दिविक रमेश द्वारा किया गया.

 

 

ध्यातव्य है कि 9 मार्च डॉ. देवसरे का जन्म दिवस है इस अवसर पर डॉ. देवसरे के परिजनों (पुत्र सर्वश्री शशांक, शशिन, पुत्री क्षिप्रा तथा पुत्रवधु) सहित जिन विद्वतजनों ने श्रद्धांजलि स्वरुप डॉ. देवसरे से जुडी अपनी स्मृतियाँ की साझेदारी की उनमें श्रीमती विभा देवसरे, संपादक डॉ. भैरूंलाल गर्ग, श्री योगेश जानी-भीलवाडा, श्रीमती मधु पन्त, डॉ. दिविक रमेश, सुश्री रेणु चौहान, श्री पंकज चतुर्वेदी, श्री विमलकांत वर्मा, डॉ. प्रकाश मनु, श्री देवेन्द्र कुमार, श्रीमती सुरेखा पाणन्दीकर,श्री अभिरंजन कुमार, श्री श्याम सुशील, श्री राकेश चक्र, श्री रमेश आज़ाद, श्री बलराम अग्रवाल, श्री अजय कुमार (मेधा बुक्स) प्रमुख थे.

लोकार्पण के बाद डॉ. भैरूंलाल गर्ग ने बालवाटिका के इस विशेषांक की योजना एवं पृष्ठभूमि पर प्रकाश डालते हुए कहा कि उनके लिए यह एक दुर्लभ और आत्मीय क्षण है जब वह बालवाटिका के अब तक के इतिहास में पहली बार देवसरे जी जैसे प्रथम पंक्ति के बालसाहित्यकार पर अस्सी पृष्ठों का एक विशेषांक प्रकाशित करने का दायित्व निभा सके हैं.

आगे भी यदि सबका सहयोग मिला तो वे अन्य मूर्धन्य बालसाहित्यकारों पर ऐसे विशेषांक प्रकाशित करने की परंपरा को जारी रखने का प्रयास करेंगे. इस अवसर पर श्रीमती विभा देवसरे एवं उनके पुत्र श्री शशिन देवसरे ने डॉ. देवसरे को संबोधित अपनी एक-एक कविता का भी पाठ किया. कार्यक्रम का सञ्चालन तथा धन्यवाद ज्ञापन रमेश तैलंग ने किया.


हरिकृष्ण देवसरे की रचनाओं पर केंद्रित थीम पविलियन

इस वर्ष १५ फरवरी से २३ फरवरी के अंतराल में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय पुस्तक मेले में डॉ हरिकृष्ण देवसरे की स्मृति में नेशनल बुक ट्रस्ट द्वारा थीम पविलियन का निर्माण किया गया. यहाँ डॉ हरिकृष्ण देवसरे की अमूल्य रचनाओं का प्रदर्शन किया गया